OMG ! Haryana में मिली 5000 साल पुरानी सोने की फैक्ट्री

OMG ! Haryana में मिली 5000 साल पुरानी सोने की फैक्ट्री

Haryana के राखीगढ़ी में, एक हड़प्पा समय की सोने की फैक्ट्री की खोज की गयी हैं !यह फैक्ट्री करीब 5000 साल पुरानी बताई जा रही है! पुरातत्व विभाग पिछले 32 सालों से यहां पर खुदाई करवा रहा हैं !खुदाई में पुरातत्व विभाग को समय-समय पर अनेक महत्वपूर्ण चीज़े मिली हैं!

इस बार विभाग को सील, सोना, मिट्टी की चूड़ियां व अन्य जरूरी सामान मिला हैं ! हालांकि खुदाई में पाए जाने वाले सोना की मात्केरा बहुत कम बताई जा रही हैं !इसके अलावा विभाग को एक मुहर मिली हैं वह हड़प्पा लिपि में लिखी गई हैं ! लिपि को पढ़ने की कोशिश जारी है!

Haryana में औरतों के मिले कंकाल –

विभाग को अब तक खुदाई में कुल 38 कंकाल मिल चुके हैं! हाल ही में दो महिलाओं के कंकाल मिले हैं ! जिनसे पास से कंगन, चूड़ियाँ , आईना (तांबे से बना हुआ ) और कुछ बर्तन भी मिले हैं ! जो की टूटे हुए हैं ! एक महिला के कंकाल का DNA परीक्षण भी किया गया! DNA परिक्षण से साबित हुआ कि वह कंकाल भारत से था! कंकाल के चारों ओर टूटी हुई चूड़ियों और टूटे हुए बर्तनों से संकेत मिलता है ! कि हड़प्पा युग के दौरान ये महिलाएं किसी ख़ास पद(POST) पर थी ! क्योकि हड़प्पा काल में ख़ास व्यक्तियों की विदाई ही इस तरह से की जाती थी |

Haryana

खुदाई के दौरान विभाग को कुछ सील और कुछ टूटे हुए बर्तन भी मिले हैं, ! जो की सील पर हड़प्पा युग की लिपि लिखी हुई है! उस लिपि को पढने की कोशिश की जा रही हैं ! विभाग का ऐसा मानना हैं की जैसे ही इस लिपि को पढ़ लिया जाएगा ! तो हड़प्पा युग की भोत सारी बातों का खुलासा होगा ! विभाग का कहना हैं की अब तक खुदाई में जो भी अवशेष मिले हैं, उन्हें एक म्यूजियम में रखा जाएगा !

मकानों के होने के संकेत आये सामने –

हिसार (Haryana) के राखीगढ़ी में पुरातत्व विभाग ने 7000 साल पुराने एक शहर की खोज की हैं । बताया जा रहा की उस समय के घरों की बनावट भी देखी जा सकती है। घरों के अंदर, रसोई के निर्माण भी पाए गए हैं। पुरातत्व विभाग के अनुसार, खुदाई के दौरान कई तांबे और सोने के ज़ेवरों की भी खोज की गई थी |

यह दर्शाता है कि यह स्थान हजारों साल पहले क़ारोबार और व्यापार का एक महत्वपूर्ण केंद्र रहा होगा। विभाग को यहाँ से मानव हड्डियाँ, मिट्टी के बर्तन और हाथी के दांत भी खुदाई में मिले हैं |

raakhigarhi site

हस्तिनापुर वासियों के पूर्वज बातये जा रहे राखीगढ़ी (Haryana) के लोग –

‘भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (ASI) के ADG डॉ. संजय मंजुल नेकहा की पिछले 20 साल में विभाग ने हस्तिनापुर, सिनौली और राखीगढ़ी में काफी काम किया है! ये निष्कर्ष निकाला जा सकता है कि राखीगढ़ी के लोग ही हस्तिनापुर वासियों के पूर्वज थे! हालांकि राखीगढ़ी साइट पर जहां पर कंकाल मिले हैं ! वहां पर पुरातत्व विभाग बारीकी से जाँच कर रहा हैं !

पब्लिक देख सकेगी अवसेश –

अब तक की बातचीत से यह सुनने में आ रहा हैं ! की राखीगढ़ी (Haryana) साइट को खुला रखा जाएगा ! और खुदाई के दौरान मिली वस्चीतुयों को एक म्यूजियम बनाकर उसमे रखा जाएगा ! केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय का एक विशेष दल भी राखीगढ़ी जायजे पहुंचा ! और यहां पर चल रहे खुदाई के काम को देखा व् उसका निरक्षण किया !और खुदाई के दौरान मिली वस्तुओं के बारे में भी जाना।

Leave a Reply

Your email address will not be published.